कैसे हाइ ब्लड शुगर त्वचा की समस्याओं को पैदा करता है ?

DIABETES HEALTH INSURANCE



त्वचा की समस्याएं जैसे घावों, खुजली और संक्रमण किसी को भी तनाव दे सकते हैं क्योंकि उन्हें संभालना मुश्किल होता है और ठीक होने में अधिक समय लगता है। वे कई कारणों से हो सकते हैं और 'मधुमेह' उनमें से एक है। वास्तव में, त्वचा की समस्याएं उच्च रक्त शर्करा के स्तर से पीड़ित व्यक्ति में पहला चेतावनी संकेत हैं।

किसी भी डायबिटीज से संबंधित बीमारी के लिए, शरीर के अंगों को और नुकसान से बचाने के लिए उचित चिकित्सा उपचार आवश्यक है। इसके लिए मधुमेह स्वास्थ्य बीमा के रूप में समर्पित चिकित्सा ध्यान और वित्तीय तकिया की आवश्यकता होती है।

उच्च रक्त शर्करा और त्वचा की समस्याओं के बीच संबंध को जानना आवश्यक है ताकि इसे रोकने के लिए आवश्यक कदम उठाए जा सकें।

अधिक जानने के लिए नीचे पढ़ें।

त्वचा की समस्याएं और उच्च रक्त शर्करा कैसे जुड़ी हैं?

लंबे समय तक रक्त में अतिरिक्त चीनी नसों, संक्रमण और परिसंचरण समस्याओं को नुकसान पहुंचा सकती है। यह समस्या त्वचा की लाली, लाली, फफोले, झुनझुनी, सुन्नता, दर्द आदि हो सकती है।

डायबिटीज के रोगियों में देखी जाने वाली आम त्वचा की स्थिति निम्न हैं:

  • बैक्टीरियल संक्रमण (इन्फेक्शन): पलक की फुंसी, फोड़े, बालों के रोम के संक्रमण या नाखून के आसपास इन्फेक्शन। ऊतकों की सूजन त्वचा को लाल, गर्म और दर्दनाक बनाती है।
  • फंगल इंफेक्शन: खमीर जैसा फंगस, दाद जैसे संक्रमण का कारण बनता है जो खुजली वाले चकत्ते, फफोले और परतदार त्वचा वाले नम और लाल क्षेत्रों का कारण बनता है।
  • त्वचा की खुजली: खुजली विशेष रूप से निचले पैरों में संक्रमण, सूखापन या खराब रक्त परिसंचरण के कारण हो सकती है।
  • एसेंथोसिस निग्रिकंस: यह एक त्वचा की स्थिति है जिसमें त्वचा, विशेष रूप से गर्दन, बगल, हाथ, कोहनी, घुटने और कमर के क्षेत्रों पर गहरा और गाढ़ा हो जाता है। शरीर का अतिरिक्त वजन भी एक जोखिम कारक हो सकता है।
  • डायबिटिक डर्मोपैथी: यह एक ऐसी स्थिति है, जिसमें छोटी रक्त वाहिकाओं में परिवर्तन होते हैं और त्वचा की समस्याओं जैसे भूरे और पपड़ीदार पैच दिखाई देते हैं।
  • एरप्टिव ज़ैंथोमैटोसिस: यह स्थिति रक्त में अनियंत्रित शुगर लेवल और ट्राइग्लिसराइड्स के उच्च स्तर वाले लोगों में होती है। उनके लक्षण त्वचा पर छोटे, पीले रंग के धक्कों के होते हैं, जो लाल प्रभामंडल से घिरे होते हैं, आमतौर पर पैर, हाथ, नितंब या पीठ पर।

इसके अलावा, टाइप -1 डायबिटीज जैसे ऑटोइम्यून रोग में विटिलिगो नामक एक स्थिति पैदा होती है, जिसमें मेलेनिन उत्पन्न करने वाली त्वचा की कोशिकाएं क्षतिग्रस्त हो जाती हैं और शरीर पर अनियमित पैच के रूप में दिखाई देती हैं। टाइप -1 डायबिटीज से डिजिटल स्केलेरोसिस भी होता है, जहाँ त्वचा मोमी और मोटी हो जाती है।

>> Check: मधुमेह के प्रकार, लक्षण, कारण और उपचार

उपचार और त्वचा विकार की रोकथाम

रोगी को एंटीबायोटिक दवाइयां देकर जीवाणु संक्रमण (बॅक्टीरियल इन्फेक्शन) का इलाज किया जाता है। सूखी और खुजली वाली त्वचा को आसानी से मॉइस्चराइज करके ठीक किया जा सकता है। हालांकि, गंभीर त्वचा की स्थिति के इलाज के लिए, उचित चिकित्सा, मधुमेह उपचार और विशेष दवा की आवश्यकता होती है।

त्वचा विशेषज्ञों का सुझाव है कि जटिलताओं से बचने के लिए निवारक उपाय किए जाने चाहिए। पहली बात नियमित व्यायाम, स्वस्थ आहार और शरीर के वजन को नियंत्रित करके रक्त शर्करा के स्तर को बनाए रखना है।

कुछ त्वचा देखभाल के लिए टिप्स नीचे दी गई हैं:

  • गर्म स्नान या सौना न लें
  • रूखेपन को रोकने के लिए त्वचा को साफ और मॉइस्चराइज रखें
  • स्वच्छ स्नान उत्पादों जैसे खुशबू रहित साबुन और माइल्ड शैम्पू का उपयोग करें
  • संक्रमण, घाव या चकत्ते को खरोंच या रगड़ें नहीं
  • साबुन और पानी से मामूली कटौती धो लें। एंटीबायोटिक क्रीम लगायें
  • फेमिनिन हाइजीन स्प्रे का इस्तेमाल न करें
  • अगर समस्या बनी रहती है तो डॉक्टरी देखभाल के लिए त्वचा विशेषज्ञ से सलाह लें

रेलिगेयर हेल्थ इंश्योरेंस द्वारा डायबिटीज के लिए अनुकूलित हेल्थ इंश्योरेंस योजनाओं का चयन करके अपने वित्तीय बोझ को कम करें।